loader2
Partner With Us NRI

Open Free Trading Account Online with ICICIDIRECT

Incur '0' Brokerage upto ₹500

संतुलित निवेश पोर्टफोलियो बनाने के 6 तरीके

2 Mins 07 Feb 2021 0 COMMENT
Balanced Portfolio

 

अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करना आपके निवेश का अधिकतम लाभ उठाने के लिए एक रणनीतिक कदम है। यह आपको वांछित परिसंपत्ति आवंटन को बनाए रखने और जोखिमों को कम करने में मदद करता है। अपने निवेश लक्ष्यों पर नज़र रखने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके सभी अंडे एक ही टोकरी में न हों, नियमित अंतराल पर अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करना अच्छा है। पोर्टफोलियो संतुलन और प्रबंधन वास्तव में आपको अपने निवेश से लाभ उठाने में सक्षम बनाता है।

 आइए उन चरणों पर एक नज़र डालें जिन्हें आपको अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करने के लिए पालन करना चाहिए:

1. अपने निवेश उद्देश्यों को जानें:

पहला कदम अपनी जोखिम उठाने की क्षमता, निवेश क्षितिज और वित्तीय लक्ष्यों की पहचान करना है। जब आप अपनी परिसंपत्ति आवंटन योजना तैयार करेंगे और अपनी निवेश रणनीति में बदलाव करेंगे तो ये एक बेंचमार्क के रूप में काम करेंगे।

2. एक योजना बनाएं:

अगला कदम एक एसेट एलोकेशन प्लान तैयार करना है। यह आपको एक निश्चित अवधि में वांछित जोखिम और रिटर्न बनाए रखने में मदद करेगा। योजना बनाते समय अपनी आय, अपने निवेश लक्ष्यों और अपने मौजूदा पोर्टफोलियो पर विचार करें। तय करें कि आप प्रत्येक प्रकार की संपत्ति में कितना निवेश करना चाहते हैं। लेकिन किसी और की एसेट एलोकेशन योजना का आँख मूंदकर पालन करने से बचें क्योंकि वह आपके लिए आदर्श योजना नहीं हो सकती है। हालाँकि एक आदर्श एसेट एलोकेशन योजना सुनिश्चित करने के लिए कोई एक तरीका नहीं है, लेकिन यह हमेशा सलाह दी जाती है कि आप निवेश करने से पहले एक बना लें।

3. मौजूदा निवेश का आकलन करें:

स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, आदि में अपने मौजूदा निवेशों पर ध्यान दें। गहन मूल्यांकन आपको अपने वित्तीय लक्ष्यों और निवेशों के बीच अंतर की पहचान करने में मदद कर सकता है। मूल्यांकन के आधार पर, आप अपने पोर्टफोलियो में उपयुक्त समायोजन कर सकते हैं।

4. अपने पोर्टफोलियो को अपनी योजना के साथ संरेखित करें:

उन निवेशों को साफ़ करें जो आपकी परिसंपत्ति आवंटन योजना के साथ संरेखित नहीं हैं या आपके जोखिम-इनाम प्रोफ़ाइल से मेल नहीं खाते हैं। यदि आप अपने निर्णय के बारे में अनिश्चित हैं, तो आप किसी निवेश सलाहकार से भी बात कर सकते हैं।

5. कर और निकासी निहितार्थों पर विचार करें:

निवेश से जल्दी बाहर निकलने पर कर निहितार्थ हो सकते हैं। जबकि आपको निवेश के एक वर्ष के भीतर इक्विटी म्यूचुअल फंड को भुनाने के लिए लगभग 1% का निकास भार देना पड़ सकता है; डेट म्यूचुअल फंड के लिए निकास भार योजना के आधार पर अलग-अलग होता है। इसके अलावा, आपको प्रत्येक प्रकार के निवेश से मिलने वाले कर लाभों पर भी विचार करना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप ELSS फंड में निवेश करना चुनते हैं, तो आप धारा 80C के तहत प्रति वर्ष 150,000 रुपये की कर कटौती का लाभ उठा सकते हैं। एक वित्तीय वर्ष से अधिक के इक्विटी निवेश पर, आपको 100,000 रुपये से अधिक के रिटर्न पर 10% का दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ या LTCG कर देना होगा। इसलिए, आपको कोई भी निर्णय लेने से पहले निकास भार लागत और कर निहितार्थ दोनों का सावधानीपूर्वक आकलन करना चाहिए। ऐसे निवेशों को अलग करना बेहतर है, जिन पर कोई कर प्रभाव नहीं पड़ता है।

6. समीक्षा करें:

हर तिमाही में अपने पोर्टफोलियो की समीक्षा करना सुनिश्चित करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपका पोर्टफोलियो एसेट एलोकेशन प्लान के साथ संरेखित है। स्टॉक मार्केट ऐप पर समय-समय पर समीक्षा करने से आपको उन संपत्तियों की पहचान करने में भी मदद मिल सकती है जो बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही हैं।

एक बार जब आप एक सिस्टम लागू कर देते हैं, तो आपके निवेश और पोर्टफोलियो को ट्रैक करना आसान हो जाएगा। यह आपको अपने निवेश लक्ष्यों को समझने में मदद करेगा और आपको अधिक आत्मविश्वास के साथ निर्णय लेने में मदद करेगा। याद रखें कि जोखिम-इनाम प्रोफ़ाइल और निवेश लक्ष्य किसी भी निवेशक के लिए स्थिर नहीं रहते हैं। इसलिए, अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करना एक बार का मामला नहीं हो सकता है। समय के साथ छोटे-छोटे समायोजन करने से आपको एक उचित पोर्टफोलियो बनाए रखने में मदद मिलेगी जो आपकी ज़रूरतों के हिसाब से पूरी तरह से संरेखित हो। पहली नज़र में ये कदम थोड़े जटिल लग सकते हैं, लेकिन एक बार जब आप इसकी आदत डाल लेंगे, तो आपको यह आसान लगेगा।

तो, इंतज़ार किस बात का? आज ही अपना ट्रेडिंग अकाउंट खोलें और अपनी निवेश यात्रा शुरू करें।